Posted in आरती, खाटू धाम, खाटू नरेश, जय श्री श्याम, फाल्गुन मेला खाटू श्याम जी, श्याम बाबा, श्री खाटू श्याम जी, श्री खाटू श्याम जी मंदिर Information, Jai Shree Shayam, Shayam baba story, Shayam bhajan

खाटू श्याम जी में मुख्य मेला

khatu shyam ji falgun mela
khatu shyam ji falgun mela

फाल्गुन मेला खाटू श्याम जी का मुख्य मेला है और यह मेला ५ दिन के लिए भरा जाता है . यह फाल्गुन माह (फरवरी/मार्च ) में तिथ के आधार पर भरता है . फाल्गुन माह की शुकल ग्यारस को मुख्य दिन होता है मेले का . फाल्गुन मेला अष्टमी से बारस तक ५ दिन के लिए भरता है . यह मेला होली त्यौहार से ५ दिन पहले भरा जाता है . लाखो भक्त दुनिया के कोने कोने से मेले में श्याम बाबा के दर्शन करने अपने परिवार और मित्रो के साथ आते है . बहूत सारे भक्त तो होली तक ही रूककर श्याम बाबा के साथ होली का त्यौहार मनाते है .
खाटू धाम में बहूत सारी धर्मसालाये भक्तो के रखने की व्यवस्ता करती है . देश भर से श्याम भजन गायक आते है और हर धर्म साला में संद्या समय श्याम बाबा की ज्योत जगा कर सत्संग कीर्तन किये जाते है . खाटू धाम और आस पास की जगह श्याम बाबा के जयकारो से गूंज उटती है . बहूत ही धार्मिक दर्श होता है इन दिनों खाटू धाम का .
इस मेले में निशान यात्रा का भी बहूत बड़ा महत्व है . निशान बाबा श्याम को समर्प्रित झंडा होता है , जिसे श्याम भक्त बाबा को भेट करने पेडल ही रिंग्स से या फिर अपने निवास से साथ लाते है . निशान प्रतिक है श्याम बाबा के इस जगत जीत का . श्याम बाबा तीन बाण धारी थे , और जगत विजेता ही थे . केसरिया निशान उनके शीश के बलिदान की याद में श्याम बाबा को चदाया जाता है .
ज्यादातर भक्त खाटू धाम से 19 km दूर रिंग्स से श्री श्याम बाबा के लिए पेडल यात्रा करते है . रिंग्स में नहा कर निशान की पूजा करके वे अपने यात्रा शुरू करते है .
रिंग्स से खाटू धाम यात्रा के बीच जगह जगह सेवा मंडल श्याम भक्तो के लिए छोटे चिकित्सालय , खाने पिने की व्यवस्ता , रहने की व्यवस्ता करते है . यह अलग ही दुनिया होती है जहा हर तरफ श्याम बाबा के जयकारे की गूंज , निशान ही निशान और श्याम भक्त दिखाई देते है .
बहूत सारे भक्त डी.जे पर डांस करते करते श्याम बाबा की खाटू धाम पहुचते है .
इन पांच दिनों में 30 लख भक्त श्याम बाबा के दर्शन करने आते है . इतने भक्तो की सुविधा के लिए प्रशासन अच्छे से व्यवस्ता करता है . सुरक्षा व्यवस्ता बहूत अच्छी की जाती है .
बोलिए खाटू वाले हम्हे बुलाले इक बार खाटू धाम , भरोशा तेरा है .

अन्य उत्सव :
खाटू श्याम जन्मोत्सव :
कृष्णा जन्मोत्सव
झूल झूलनी एकादस्मी
होली
वसंत पंचमी