Posted in मेरा आपकी कृपा से, सब काम हो रहा है Bhajan Lyrics, Mera Aapki Kripa Se Shyam Bhajan Lyrics, SHYAM BHAJAN HINDI LYRICS, Shyam Bhajan Lyrics in Hindi, Uncategorized

SHYAM BHAJAN HINDI LYRICS Mera Aapki Kripa Se Shyam Bhajan Lyrics in Hindi मेरा आपकी कृपा से, सब काम हो रहा है Bhajan Lyrics

Mera Aapki Kripa Se Shyam Bhajan Lyrics in Hindi मेरा आपकी कृपा से, सब काम हो रहा है Bhajan Lyrics

मेरा आपकी कृपा से, सब काम हो रहा है।
करते हो तुम कन्हैया, मेरा नाम हो रहा है॥
 
पतवार के बिना ही, मेरी नाव चल रही है।
हैरान है ज़माना, मंजिल भी मिल रही है।
करता नहीं मैं कुछ भी, सब काम हो रहा है॥
 
तुम साथ हो जो मेरे, किस चीज की कमी है।
किसी और चीज की, अब दरकार ही नहीं है।
तेरे साथ से गुलाम, अब गुलफाम हो रहा है॥
 
मैं तो नहीं हूँ काबिल, तेरा पार कैसे पाऊं।
टूटी हुयी वाणी से, गुणगान कैसे गाऊं।
तेरी प्रेरणा से ही, सब ये कमाल हो रहा हैं॥
 
मुझे हर कदम कदम पर, तूने दिया सहारा।
मेरी ज़िन्दगी बदल दी, तूने करके एक इशारा।
एहसान पे तेरा ये, एहसान हो रहा है॥
 
तूफ़ान आंधियों में, तूने ही मुझको थामा।
तुम कृष्ण बन के आए, मैं जब बना सुदामा।
तेरे करम से अब ये, सरेआम हो रहा है॥

Mera Aapki Kripa Se,Sab Kaam Ho Raha Hai

Posted in Bhajan Lyrics In Hindi, Uncategorized

Har Gyaras Khatu Me Jo Amrit Barsata Hai Lyrics – Sardar Romi Ji Amrit Bhajan Lyrics

Har Gyaras Khatu Me Jo Amrit Barsata Hai Lyrics

 

अमृत हर ग्यारस खाटू में, अमृत जो बरसता है लिरिक्स सरदार रोमी जी, Sardar Romi Ji-Amrit Lyrics-Har Gyaras Khatu Me Jo Amrit Barsata Hai Lyrics

हर ग्यारस खाटू में, अमृत जो बरसता है Bhajan Lyrics In Hindi

हर ग्यारस खाटू में, अमृत जो बरसता है,
उस अमृत को पीने, हर भक्त पहुँचता है,
उस अमृत को पीने, हर भक्त पहुँचता है,

यहाँ भजनों की गंगा, अमृत सी बहती है,
यहाँ भजनों की गंगा, अमृत सी बहती है,
सब के दिल की बातें, बाबा से कहती हैं,
सब के दिल की बातें, बाबा से कहती हैं,
इन बूँदों को पीकर, हर भक्त थिरकता है,
इन बूँदों को पीकर, हर भक्त थिरकता है,
उस अमृत को पीने, हर भक्त पहुँचता है,
हर ग्यारस खाटू में, अमृत जो बरसता है,

भजनों की ये बुँदे जब कान में पड़ जाय,
हर प्रेमी बाबा का मेरे श्याम से जुड़ जाए,
फिर होश रहे ना उसे, हँसता है सिसकता है,
उस अमृत को पीने, हर भक्त पहुँचता है,
हर ग्यारस खाटू में, अमृत जो बरसता है,

ये भजनों के गंगा, हमें श्याम से मिलवाये,
यहाँ डुबकी लगाने को, मेरा श्याम चला आये,
यहाँ डुबकी लगाने को, मेरा श्याम चला आये,
अमृत ये भजनों का जब जब छलकता है,
अमृत ये भजनों का जब जब छलकता है,
उस अमृत को पीने, हर भक्त पहुँचता है,
हर ग्यारस खाटू में, अमृत जो बरसता है,

इस अमृत में प्यारे, तुम जहर नहीं घोलो,
इस अमृत में प्यारे, तुम जहर नहीं घोलो,
कहता रोमी तोलो, तोल के फिर बोलो,
इसे पावन रहने दो, विश्वाश भटकता है,
इसे पावन रहने दो, विश्वाश भटकता है,
उस अमृत को पीने, हर भक्त पहुँचता है,
हर ग्यारस खाटू में, अमृत जो बरसता है,
हर ग्यारस खाटू में, अमृत जो बरसता है,
उस अमृत को पीने, हर भक्त पहुँचता है,
उस अमृत को पीने, हर भक्त पहुँचता है,

अमृत | Amrit | Shyam Bhajan by Sardar Romi
har gyaaras khaatoo mein, amrt jo barasata hai,
us amrt ko peene, har bhakt pahunchata hai,
us amrt ko peene, har bhakt pahunchata hai,

yahaan bhajanon kee ganga, amrt see bahatee hai,
yahaan bhajanon kee ganga, amrt see bahatee hai,
sab ke dil kee baaten, baaba se kahatee hain,
sab ke dil kee baaten, baaba se kahatee hain,
in boondon ko peekar, har bhakt thirakata hai,
in boondon ko peekar, har bhakt thirakata hai,
us amrt ko peene, har bhakt pahunchata hai,
har gyaaras khaatoo mein, amrt jo barasata hai,

bhajanon kee ye bunde jab kaan mein pad jaay,
har premee baaba ka mere shyaam se jud jae,
phir hosh rahe na use, hansata hai sisakata hai,
us amrt ko peene, har bhakt pahunchata hai,
har gyaaras khaatoo mein, amrt jo barasata hai,

ye bhajanon ke ganga, hamen shyaam se milavaaye,
yahaan dubakee lagaane ko, mera shyaam chala aaye,
yahaan dubakee lagaane ko, mera shyaam chala aaye,
amrt ye bhajanon ka jab jab chhalakata hai,
amrt ye bhajanon ka jab jab chhalakata hai,
us amrt ko peene, har bhakt pahunchata hai,
har gyaaras khaatoo mein, amrt jo barasata hai,

is amrt mein pyaare, tum jahar nahin gholo,
is amrt mein pyaare, tum jahar nahin gholo,
kahata romee tolo, tol ke phir bolo,
ise paavan rahane do, vishvaash bhatakata hai,
ise paavan rahane do, vishvaash bhatakata hai,
us amrt ko peene, har bhakt pahunchata hai,
har gyaaras khaatoo mein, amrt jo barasata hai,
har gyaaras khaatoo mein, amrt jo barasata hai,
us amrt ko peene, har bhakt pahunchata hai,
us amrt ko peene, har bhakt pahunchata hai,

Song: Amrit Singer: Sardar Romi Ji Music: Lovely Sharma Lyricist: Sardar Romi Ji Video: Shyam Creations | Category: Shyam Bhajan (Hindi Bhajan) Label: Sardar Romi Devotions